Home घरेलू उपचार गुर्दे की पथरी को कैसे दूर करें? पथरी को दूर करने के घरेलू उपचार

गुर्दे की पथरी को कैसे दूर करें? पथरी को दूर करने के घरेलू उपचार

by Foggfitness

गुर्दे की पथरी को कैसे दूर करें?

गुर्दे की पथरी को कैसे दूर करें (kidney stone in hindi): किडनी की पथरी को अंग्रेजी में किडनी स्टोन कहते हैं। जब यूरिन में फॉस्फोरस , केमिकल यूरिक एसिड , ऑक्जालिक एसिड और कैल्शियम की मात्रा बढ़ जाती हैं तो पथरी का निर्माण होता हैं। इन सब खनिज लवणों का मिलना और एकजुट हो जाना धीरे -धीरे पथरी का निर्माण कर देता हैं। गुर्दे (किडनी ) के अंदर एक या एक से अधिक पथरी भी हो सकती हैं। शुरुआत में पथरी छोटी हो सकती हैं लेकिन उसका आकार बढ़ता जाता हैं।

किडनी (गुर्दे ) की पथरी के लक्षण – Symptoms of kidney stone in hindi

गुर्दे में पथरी होने के जल्दी से लक्षण नहीं दिखाई देते हैं क्योंकि पथरी बिना दर्द किये गुर्दे के अंदर रह सकती हैं। लेकिन जब पथरी गुर्दे को छोड़ती हैं तब वह मूत्रमार्ग से मूत्राशय की ओर जाते हुए मूत्रवाहिनी में फंस सकती हैं। तो यह गुर्दे (किडनी ) की सूजन (हाइड्रोनेफ्रोसिस ) का कारण बन सकता हैं। जो बहुत ही दर्दनाक साबित हो सकता हैं। अगर पथरी छोटी हैं तो मूत्रमार्ग से मूत्राशय के द्वारा बहार निकल सकती हैं।

गुर्दे ( किडनी ) की पथरी के लक्षण निम्नलिखित हैं –

१. मूत्र (यूरिन ) का बार बार आना महसूस होना।

२. यूरिन में खून आना और यूरिन का गाढ़ा होना।

३. मूत्र (यूरिन ) में गंद आना। और मूत्र करते समय तीव्र आवश्यकता महसूस होना।

४. मूत्र का एक समय में बहुत कम मात्रा में आना।

५. कमर के निचले हिस्से में ऐंठन वाला दर्द और बाजू में दर्द होना जो बहुत ही असहनीय होता हैं। दर्द की तीव्रता में उतार -चढ़ाव भी हो सकता हैं। और यह दर्द कुछ समय के बाद वापिस भी आ सकता हैं. पथरी का दर्द कमर के निचले हिस्से और जांघो के बीच भी पहुँच सकता हैं जो बहुत ही दर्दनाक होता हैं।

६. मूत्र करने पर जलन का महसूस होना।

७. पुरुष को लिंग की नोक पर दर्द महसूस हो सकता हैं।

८. उलटी का होना और बुखार आना।

९. पेशाब का रंग गहरा भूरा या लाल भी हो सकता हैं। कई बार मूत्र में रक्त कोशिकाएं भी होती है जो हमारी नग्न आँखों से नहीं देखी जा सकती हैं।

१०. यूरिन करते समय दर्द होना।

गुर्दे की पथरी (किडनी स्टोन ) निकालने के उपचार – Extract treatment of kidney stone in hindi

किडनी स्टोन में आपको अपनी डाइट का खास ध्यान रखना होता हैं। अगर पथरी का आकार 5 मिलीमीटर से छोटा हैं तो आप अपने खान -पान के जरिये ही गुर्दे की पथरी को बहार निकल सकते हैं। अगर आपको असहनीय दर्द से गुजरना पड़ रहा हैं तो तुरंत आपको अपने चिकित्सक से परामर्श करना चाहिए। तो चलिए हम जान लेते हैं की हमें किन बातो का ध्यान रखना चाहिए।

  • पानी गुर्दे की पथरी निकालने में हैं सहायक- अगर आपके गुर्दे में पथरी हैं जिसका आकार छोटा हैं तो रोजाना 8 -10 गिलास पानी पिने से पथरी को आसानी से निकला जा सकता हैं। जिससे गुर्दे की पथरी मूत्रमार्ग से निकल जाती हैं।
  • अनार के जूस से निकाल सकते हैं गुर्दे की पथरी – अनार अपने क्षारीय गुण के कारण पथरी को बनने से रोकता हैं। अनार में मौजूद पौटेशियम क्रिस्टल्स और मिनरल को बनने से रोकता हैं। जिन मिनरल्स और क्रिस्टल से पथरी का निर्माण होता हैं। यह हमारे एसिड के स्तर को सामान्य बनाये रखता हैं। अनार गुर्दे की पथरी के लिए बहुत लाभदायक हैं।
  • तरल पदार्थो का करे सेवन – किडनी स्टोन से छुटकारा पाने के लिए ज्यादा से ज्यादा तरल पदार्थो का सेवन अति आवश्यक हैं। जैसे- तरबूज , खीरा ,गाजर ,नारियल पानी ,मूली आदि का सेवन कर सकते हैं। इन पदार्थो में पानी की मात्रा ज्यादा पायी जाती हैं जिससे हमारा शरीर हाइड्रेट रहता हैं और पथरी यूरिन के द्वारा बहार निकल जाती हैं।
  • किडनी स्टोन के लिए विटामिन बी हैं जरुरी– चिकित्सक के अनुसार गुर्दे की पथरी से छुटकारा पाने के लिए विटामिन बी अति आवश्यक हैं। विटामिन बी 100 -150 एमजी की नियमित खुराक लेने से किडनी के स्टोन से निजात पा सकते हैं।
  • रोजाना 5 -7 तुलसी के पत्ते का सेवन- तुलसी के अंदर एसिटिक एसिड और तेल मौजूद होता हैं। जो की पथरी को तोड़ने में मदद करता हैं। जिससे पथरी छोटे -छोटे टुकड़ो में टूट जाती हैं और मूत्रमार्ग से मूत्रवाहिनी में पहुंचकर मूत्राशय के द्वारा बहार निकल जाती हैं। इसके लिए हमे रोजाना 5 -7 तुलसी के पत्ते चबाकर खाने चाहिए।
  • प्याज़ का पानी पथरी को निकालने में हैं लाभकारी- दो मध्यम आकर के प्याज़ को एक बड़े गिलास पानी में पकाये और ठंडा होने पर पीस लें। पीसने के बाद इसको छान ले और एक से दो दिन इसका सेवन करे। इसके सेवन से पथरी बहार निकल जाएगी।

गुर्दे की पथरी (किडनी स्टोन ) में क्या नहीं खाना चाहिए – What not to eat in kidney stone in hindi

१. किडनी स्टोन होने पर आपको सोडियम (नमक ) बहुत काम मात्रा में सेवन करना चाहिए।

२. मॉस और मछली का सेवन नहीं करना चाहिए

३. प्रोटीन वाले पदार्थों का कम से कम सेवन करना चाहिए।

४. ऑक्सलेट वाले पदार्थों के सेवन से बचे। जैसे- मूंगफली ,बादाम आदि।

५. डिब्बा बंद खाने से परहेज करना चाहिए।

६. आचार और जंक फ़ूड का सेवन न करें।

७. टमाटर , बैंगन के बीज या बैंगन , उरद और चने की दाल , कच्चा चावल आदि पथरी की समस्या को बढ़ा सकता हैं। पथरी होने पर इनका परहेज करें।

८. कोल्डड्रिंक का सेवन न करें। और यूरिक एसिड की मात्रा को न बढ़ने दें।

डॉक्टर के पास कब जाने की सलाह दी जाती हैं ?

अगर आपको किडनी स्टोन का दर्द असहनीय हैं और देर तक बना रहता हैं तो आपको तुरंत डॉक्टर के पास जाना चाहिए और जांच करवानी चाहिए। नहीं तो मूत्राशय में संक्रमण होने का खतरा बन सकता हैं और ज्यादा दर्द के दौरान किडनी में सूजन भी आ सकती हैं।

You may also like

Leave a Comment